Golden Rules of Accountancy in Hindi




Golden Rules of Accounts

General Entry लिखने के नियम(Golden Rules of Accounts in Simple way )

Golden rules of accounts : - हेल्लो दोस्तो स्वागत है आप सबका अपने MyPkWeb में आज इस पोस्ट में हम जाने गे golden rules of accounts वोभी बिल्कुल सरल भाषा मे जिस को पढ़ने के बाद आप 100% कोई दिकत नही आये गी तो चलिए शरू करते है।

Note:- इस पोस्ट को बड़े ही ध्यान से पड़े ये पोस्ट General Entry  करने के लिए बहुत जरुरी है.

Golden Rules of accounts क्या होते है.(What is Golden Rules).

ये वो नियम है जिन की सहयता से हम General Entry लिखते है.
हमारे accounts तीन प्रकार के होते है.

1. Personal Accounts

2.Real Accounts

3.Nominal Accounts

1.What is Personal Accounts?

Personal Accounts ये किसी नाम से सम्बंदित होते है.और इन की एंट्री करने का एक अलग नियम होता है.



For Example:-


Naresh Enterprises,syam Pvt Ltd., Rajesh &co. etc. ये सभी personal Accounts में आते है.
What is Rules of Personal Accounts?
Debit the Receiver(प्राप्त करने वाले को Debit करो)
Credit the Giver(देने वाले को Credit करो)

For Example:-

राम ने श्याम को Rs.10000 चुकाए.
इस में राम ने श्याम को Rs.10000 रुपे दिए है. इस लिए राम देने वाला है तो हम राम के account को Credit करे गे.
श्याम इस में प्राप्त करने वाला है इस लिए हम श्याम के account को Debit करे गे.
ये एंट्री इस प्रकार होगी.
Shyam A/c Dr. Rs.10000
  To Ram A/c              Rs.10000

What is Real Account?

Real Account ये किसी Assets या वस्तु से सम्बंदित होते है.

For Example:-

Building,Machinery,Furniture,Land,Goods,Cash etc.

What is Rules of Real Accounts?

Debit Whats Comes In(जो व्यपार में आये उसे Debit करो)
Credit Whats Goes Out(जो व्यपार से जाये उसे Credit करो)

For Example:-.

मशीन खरीदी नगद Rs.50000.
मशीन हमारी Real Account में आती है इस लिए इस पर हमारा Real Accounts वाला नियम लागु होगा.क्योकि मशीन व्यपार में आई है तो इस लिए नियम के अनुसार मशीन को Debit करे गे.
और नगदी भी अमर Real Accounts में आती है और नगदी व्यपार से गई है नियम के अनुसार इसे Credit करे गे.
एंट्री इस प्रकार होगी.
Machinery A/c Dr. Rs.50000
     To Cash A/c             Rs.50000

What is Nominal Account?

ये खाते लाभ और हानि से सम्बंदित होते है.

For Example:-

Salary,Wages,Rent,Purchase,Sales etc.

Rules of Nominal Account

Debit all Expenses & Losses(सभी खर्चो और घातो को Debit करो )
Credit all Income & Gains(सभी आय और लाभों को Credit करो)

For Example:-

Paid Rant for Cash Rs.10000.
इस में जो Rent का भुगतान किया और ये हमारा Nominal accounts के अंतर्गत आता है तो ये हमारा खर्च हो गया और Nominal Account नियम के हिसाब से हमे ये rent Account को Debit करना है.
और दूसरी और व्यपार से नकदी गई है नगदी हमारी Real Accounts के अन्तेर्गत आता है. नियम के हिसाब से ये Credit होगा.
Entry इस प्रकार होगी.

Rent A/c Dr,  Rs.10000
     To Cash A/c     Rs.10000
Goods Sold for cash Rs.15000.

इस एंट्री में हमने माल को विक्रय किया है और विक्रय हमारा nominal Account के अन्तेर्गत आता है.और ये हमारी आय भी है नियम के हिसाब से हम इसे Credit करे गे.
और नगदी व्यपार में आई है और नगदी हमारी Real Account के अन्तेर्गत आती है और नगदी व्यपार में आई है नियम के हिसाब से इसे हम Debit करे गे.
एंट्री इस प्रकार होगी.

Cash A/c Dr.  Rs.15000


       To Sales A/c Rs.15000


conclusions : -

हमने इस पोस्ट के जरिये golden rules of accounts को जितना होसके सरल भाषा मे बताने की कोशिश की है। आसा करता हूँ ये पोस्ट आप को पसंद आई है। ऐसी ही जानकारी daily पाने के लिए हमे ईमेल डाल कर सब्सक्राइब कर ले जिस से हर ताजा अपडेट आप तक पहुँच सके. 

और कमेंट कर जरूर बताये आप को जानकारी कैसी लगी। अगर कोई दिकत आती है तो कमेंट कर पूछ सकते है। आप को reply जरूर किया जाये गा। और दोस्तो के साथ शेयर करना न भूलिये गा !! धन्यवाद!!

Post a Comment

0 Comments