Spacial माँ शायरी। Maa Shayari in Hindi

Maa Shayari

Spacial माँ शायरी। Maa Shayari in Hindi


**********************************************

मुरझाये हुवे फूल फिर से खिल जाते है। 
टूटी हुई टहनी फिर से उग आती है। 
लेकिन एक बार मिली हुई माँ दोबारा से नहीं मिलती है। 

Murjaye huve phool fir se khil sakte hai.
tuti hui tahni dubara se ug sakti hai.
lekin ek baar mili hui maa dobara se nahi mil sakti hai.

**********************************************

चाहे हम भूल जाये माँ को। 
लेकिन जब चोट लगती है। 
याद आती है माँ। 

chahe hum bhul jaye maa ko.
 lekin jab chot lagti hai.
yaad aati hai maa.

**********************************************

जहा मांगने पर सब मिल जाता है। 
वो माँ के ही चरण होते है। 

jaha mangne par sab mil jata hai.
 vo maa ke charan hi hote hai.

**********************************************

सारी रात में स्वर्ग में रहा। 
और जब आँख खोली तो देखा। 
में माँ के कदमो में था। 

sari raat me surag me raha.
or jab aankh kholi to dekha.
me maa ke kadmo me tha.

**********************************************

Spacial माँ शायरी। Maa Shayari


जिस तरह पक्षी पर पंख अच्छी लगती है। 
उसी तरह माँ का प्यार अच्छा लगता है। 

jish trah pakshi par pankh achhi lagti hai.
usi trah maa ka pyar achha lagta hai.
**********************************************

मत रुलाना माँ को कभी। 
अगर माँ रूठ गई ना। 
तो सारा जहाँ रूठ जाये गा। 

mat rulana maa ko kabhi.
agar maa ruth gai naa.
to sara raha ruth jaye ga.




अगर आप को Love Shayari अच्छी लगे। गुजारिश है आप से एक शेयर लाइक comment जरूर करे इसे मुज को बहुत हौसला मिलता है। 

Post a Comment

0 Comments