[Very Simple] Accounting Concepts in hindi

0

Accounting Concepts in Hindi : – लेखांकन की कुछ महत्वपूर्ण जानकारी जो आप के लिए बहुत जरुरी है. (accounting principles in hindi)

Accounting Concepts in hindi

  1. What is Accounts in Hindi?
  2. Capital का क्या अर्थ होता है? (What is Capital in hindi?)
  3. सम्पति क्या होती है?(What is Assets in hindi?)
  4. चालू सम्पति क्या होती है?(What is Current Assets in hindi ?)
  5. स्थाई सम्पति क्या होती है?(What is Fixed Assets in hindi?)
  6. लेनदार क्या होते है?(What is Sundry Creditors in hindi?)
  7. What is Long Term Liability in hindi?
  8. What is Purchase in hindi?
  9. What is Sales in hindi?
  10. खता(Ledger) क्या होता है?(What is Ledger?)

What is Accounts in Hindi?

आसान शब्दों में लेखांकन एक एसी कला है जिस में हम व्यपार के सभी लें देनो को दिनांक के हिसाब से दर्ज करते है. इस की साहयता से हमे पता चल जाता है.

की एक निश्चित समय में हमे कितना माल Purchase या Sale किया है. और कितना लाभ हुआ है. और कितना लोस हुआ है.

Capital का क्या अर्थ होता है? What is Capital in hindi?

Capital का मतलब होता है जो पैसा मलिक व्यपार में लगाकर सरू करता है उस पैसे को Accounts में capital के नाम से जाना जाता है.

For Example:-

राम ने 2,00,000 की राशि लगा कर व्यपार सरू किया. (Ram business started with cash Rs.2,00,000.)

इस में जो 2,00,000 की राशि लगाकर व्यपार सरू किया है उसे हम Capital कहे गे.

ये वो सम्पतिया होती है जो व्यपार में प्रयोग के लिए खरीदी जाती है. ये व्यपार के लिए खरीद होती है.इस को हम Purchase नहीं मानते है. सम्पतिया दो प्रकार की होती है.

  1. चालू सम्पति
  2. स्थाई सम्पति

For Example:-

जमीन(Land),furniture,मशीनरी(Machine),फैक्ट्री आदि.
ये वो सम्पतिया होती है जो व्यपार में निरंतर आती जाती रहती है.

For Example:-

  • माल(Goods).

ये वो सम्पति होती है जो व्यपार में लम्बे समय तक रहती है.कम से कम एक साल तक रहती है.उने हम स्थाई सम्पति कहते है.

For Example:-

  • Land,furniture,Building etc.

6. देनदार क्या होते है?(What is Sundry Debtors in hindi?)

देनदार वह होता है जिस को हम उदार (Credit) माल या सेवाए देते है जिन से हमे भविष्य में हमे पैसे लेने होते है जब तक हमे वो पैसे नहीं दे देता तब तक हमारा देनदार (sundry Debtors) रहता है.

For Example:-

Goods Sold to Ashok Ltd. in Credit.
इस में Ashok Ltd. Sundry Debitor है.

ये वो होते है जिन से हम उदार(Credit) में माल खरीदते(Purchase) करते है. भविष्य में हमे पैसा चुकाना होता है.उने हम लेनदार या Sundry Creditor कहते है.

For Example:-

  • Goods Purchase from Parveen Pvt.Ltd. in Credit.

इस में Parveen Pvt.Ltd. हमारा लेनदार(Sundry Creditor) है.

आसान शब्दों में इस के अंदर हमे पैसा चुकाने के लिए एक साल या फिर उसे ज्यादा समय मिलता है. इसे हम Long Term Liability कहते है.

इन्हें भी जरुर से पढ़े : –

9. What is Short Term Liability in hindi?

आसान शब्दों में इस के अंदर हमे पैसा चुकाने के लिए एक साल से कम समय मिलता है. इसे हम Short Term Liability कहते है.
इस में दोबारा बेचने के लिए क्रय करते है उसे हम खरीद(Purchase) कहते है.

For Example:-

Goods purchase from Suresh Enterprises.
Goods purchase form Ram Enterprises.

जिस माल को हम विक्रय करते है तो उसे हम sales कहते है.

Goods sold to R.K Ltd.
Goods Sold to Rakesh Enterprises.

In Simple Words इस के अंदर किसी Particular पार्टी की पूरी Details होती है.
जेसे:-पार्टी से क्या-क्या लेनदेन हुए है कितना पैसा लेना है कितना देना है किसी भी Particular पार्टी की हम पूरी जानकारी ले सकते है. खाते(Ledger) की साहयता से।

आज हमने सिखा Basic Accounting Concepts in Hindi आसा करता हूँ ये जानकारी आप को पसंद आई है ऐसी ही जानकारी पाने के लिये हमें ईमेल डाल कर सब्सक्राइब कर ले और नोटिफिकेशन को भी allow कर दे.

ये फ्री है इस से आप को हर ताजा अपडेट की जानकारी आप तक पहुँच जाये गी !! धन्यवाद !!

दोस्तों के साथ शेयर जरुर करे …..

4.0
01
हेल्लो मेरा नाम प्रवीन कुमार है और में Technical Parveen ब्लॉग का फाउंडर हू इस ब्लॉग पर में अपने अनुभव आपके साथ शेयर करता हू जोकि आपके जीवन में आपकी कुछ हेल्प कर सके आशा करता हु आपको हमारा ब्लॉग पसंद आये गा धन्यवाद.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here